What is the difference between open ended funds and closed funds?

म्यूचुअल फंड को उनकी संरचना के आधार पर तीन प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है: open ended funds, close ended funds और interval funds। इनमें से, ओपन एंडेड म्यूचुअल फंड निवेशकों के बीच सबसे आम और लोकप्रिय हैं।

यहां, हम ओपन एंडेड म्यूचुअल फंड के बारे में जानेंगे और भारत में विभिन्न प्रकार के ओपन एंडेड फंडों के साथ-साथ उनके लाभों और अन्य चीजों के बारे में बात करेंगे open ended funds और close ended funds के बीछ क्या अंतर है इस पर भी बात करेंगे।

Open Ended Funds 

यह कहना सुरक्षित है कि जब लोग म्यूचुअल फंड की बात करते है, तो उनका मतलब ओपन एंडेड म्यूचुअल फंड होता है। उनके close ended funds के विपरीत, ओपन एंडेड फंडों की unit का स्टॉक एक्सचेंज पर कारोबार नहीं किया जाता है। इसके अलावा, फंड द्वारा जारी की जा सकने वाली unit की संख्या की कोई सीमा नहीं है।

निवेशक किसी भी working day पर स्कीम के मौजूदा नेट एसेट वैल्यू (NAV) पर फंड हाउस से यूनिट खरीद या बेच सकते हैं।

Close Ended Funds

Closed ended fund एक इक्विटी या डेट फंड है, जिसमें लॉन्च के समय फंड हाउस एक निश्चित संख्या में यूनिट जारी करता है। एक बार NFO (New Fund Offer) की अवधि समाप्त हो जाने के बाद, निवेशक क्लोज्ड एंडेड फंड की यूनिटें खरीद या बेच नहीं सकते हैं।

ये फंड एनएफओ के माध्यम से लॉन्च किए जाते हैं और बाद में स्टॉक की तरह बाजार में कारोबार किए जाते हैं और इनकी एक निश्चित परिपक्वता अवधि होती है।

जबकि फंड का NAV इसके आंतरिक मूल्य को निर्धारित करता है, इकाइयों की मांग और आपूर्ति के आधार पर कारोबार की कीमत इस मूल्य से ऊपर या नीचे जा सकती है।

सरल शब्दों में, एक क्लोज्ड एंडेड फंड लॉन्च अवधि के बाद परिपक्वता तक ‘बंद’ हो जाता है। इससे फंड मैनेजर को फंड के निवेश उद्देश्यों को आगे बढ़ाने की अधिक स्वतंत्रता मिलती है।

What is the difference between open ended funds and closed funds?

Advantages of Open-Ended Funds

  • Open ended funds में आप जब चाहे mutual fund unit को खरीद और बेच सकते है। यह पर किसी भी प्रकार का lock in period नहीं होता हालांकि कुछ ऐसे funds है जिसमे lock in period होता है परन्तु ये निवेशक के ऊपर निर्भर करता है उसे क्या चुनना है।
  • Open ended funds में निवेशक को इस बात का फायदा होता है कि वह फण्ड का ऐतिहासिक रिकॉर्ड देख सकता है कि उसने पिछले सालो में कैसा परफॉर्म किया है। निवेश बाईट सालों के return भी देख सकता है और सोच समझ कर निवश करने की योजना बना सकता है।
  • क्योंकि आप इस फंड में कार्य दिवस पर कभी भी यूनिट खरीद और बेच सकते हैं। इसलिए आप इसमें निवेश की योजना बना सकते हैं. यह फंड उन लोगों के लिए सबसे अच्छा विकल्प है जिनके पास निवेश करने के लिए धन नहीं है और जो कुछ पैसे बचाकर निवेश करना चाहते हैं। वह एसआईपी के जरिए इसमें निवेश कर सकते हैं।

Advantages of Close-Ended Funds

  • चूंकि एक बंद अवधि वाले फंड में, निवेशक परिपक्वता तिथि से पहले अपनी इकाइयों को बेचा नहीं सकते हैं, फंड प्रबंधकों के पास काम करने के लिए एक निर्धारित संपत्ति होती है। वे liquidity बनाए रखने के बारे में चिंतित नहीं हैं, क्योंकि कोई redemption नहीं है। यह फंड मैनेजर को ऐसी रणनीति बनाने और योजना के निवेश उद्देश्यों को प्राप्त करने में मदद कर सकती है।
  • इक्विटी शेयरों की तरह, बंद अवधि वाली योजनाओं की इकाइयां स्टॉक एक्सचेंज पर योजना की इकाइयों की मांग और आपूर्ति द्वारा निर्धारित कीमतों पर बेची जाती हैं। इसलिए, यदि किसी विशेष क्लोज्ड एंडेड योजना की मांग बढ़ती है और आपूर्ति कम रहती है, तो इकाइयां योजना के NAV से काफी अधिक कीमत पर बेच सकती हैं।
  • क्लोज्ड एंडेड फंड illiquidity लग सकता है, क्योंकि फंड हाउस यूनिटों को रिडीम की अनुमति नहीं देता है, स्टॉक एक्सचेंज यूनिट खरीदने/बेचने के लिए अनगिनत अवसर प्रदान करता है। वास्तव में, क्लोज्ड एंडेड फंड निवेशकों को उच्च स्तर की liquidity प्रदान करते हैं। आप मौजूदा बाजार कीमतों पर स्टॉक एक्सचेंज से क्लोज्ड एंडेड फंड की यूनिटें खरीद या बेच सकते हैं।

Disadvantages of Open-Ended Funds

  • ओपन-एज्ड म्यूचुअल फंड में एनएवी शेयर बाजार और अंतर्निहित प्रतिभूतियों के प्रदर्शन के अनुसार उतार-चढ़ाव करता है। ओपन एंडेड म्यूचुअल फंड में एक जोखिम कारक है, वे प्रकृति में उच्च अस्थिरता वाले हैं।
  • ओपन-एंडेड फंड भी बाजार और नकदी प्रवाह जोखिम के अधीन हैं। बाजार की अस्थिरता की प्रतिक्रिया में इन फंडों का एनएवी दैनिक आधार पर बदलता है।

Disadvantages of Close-Ended Funds

  • अगर हम क्लोज्ड एंडेड फंड के अतीत में देखे तो इन्होने कोई ओपन एंडेड फण्ड की तुलना में खाश return बना कर नहीं दिए है।
  • क्लोज एंडेड फण्ड में निवेश करने के लिए आपके पास पहले से पूंजी होनी चाहिए यहां आप SIP के माध्यम से निवेश नहीं कर सकते है।
  • क्लोज एंडेड फण्ड में आपको Lockin period मिलता है आप एक निश्चित समय के बाद ही अपना पैसा निकाल सकते है।
  • कोई भी निवेशक किसी भी म्यूचुअल फंड स्कीम में निवेश करने से पहले उसके पिछले रिकॉर्ड की जांच करता है कि उसका प्रदर्शन कैसा रहा है। ओपन एंडेड फंड में निवेश के लिए यह विकल्प उपलब्ध है लेकिन क्लोज एंडेड फंड में यह विकल्प उपलब्ध नहीं है, इसलिए निवेशक इसमें कम निवेश करते हैं। करना पसंद है

ओपन एंडेड म्यूचुअल फंड में किसे निवेश करना चाहिए?

ओपन एंडेड फंड म्यूचुअल फंड बाजार का सबसे बड़ा हिस्सा हैं। अधिकांश निवेशक ओपन एंडेड फंड में निवेश इसलिए पसंद करते है क्योकि यहां पर उनको कभी भी यूनिट को बहकने और खरीदने की सुविधा मिलती है। और खिड़ने से पहले वे अतीत का परफॉर्मन्स भी देख सकते है।

जो निवेशक वेतन भोगी है और कुछ पैसा निवेश करना चाहते है तो वे SIP के माध्यम से ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश कर सकते है।

केवल एक चीज जिसे उन्हें ध्यान में रखना है वह है अपने वित्तीय लक्ष्यों, जोखिम सहनशीलता और निवेश क्षितिज के अनुसार निवेश करना।

निष्कर्ष

इसके माध्यम से हमने आपको यह समझने की पूरी कोशिश की है कि ओपन एंडेड म्युचुअल फंड क्या होते हैं और क्लोज एंडेड म्युचुअल फंड क्या होते हैं हमने आपको इन दोनों में अंतर करके भी बताया कि आपको किस में ज्यादा फायदा है और आपको किस म्युचुअल फंड में निवेश करना चाहिए। यदि आप नौकरी करते हैं और नौकरी के साथ में कुछ पैसा निवेश करना चाहते हैं तो आप ओपन एंडेड जैसे म्युचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं क्योंकि यहां पर आपको SIP करने का विकल्प मिलता है। यदि आपको ओपन एंडेड म्युचुअल फंड या क्लोज एंड इन म्युचुअल फंड से संबंधित कोई भी सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं।

Leave a Comment